Samvaad-Lekhn (Dialogue Letter) संवाद-लेखन | संवाद-लेखन (Dialogue Letter) की परिभाषा

Samvaad-Lekhn (Dialogue Letter)संवाद-लेखन

संवाद-लेखन (Dialogue Letter) की परिभाषा


दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच हुए वार्तालाप या सम्भाषण को संवाद कहते हैं। 

दूसरे शब्दों में- दो व्यक्तियों की बातचीत को 'वार्तालाप' अथवा 'संभाषण' अथवा 'संवाद' कहते हैं।

संवाद का सामान्य अर्थ बातचीत है। इसमें दो या दो से अधिक व्यक्ति भाग लेते है। अपने विचारों और भावों को व्यक्त करने के लिए संवाद की सहायता ली जाती है। जो संवाद जितना सजीव, सामाजिक और रोचक होगा, वह उतना ही अधिक आकर्षक होगा। उसके प्रति लोगों का खिंचाव होगा। अच्छी बातें कौन सुनना नहीं चाहता ? इसमें कोई भी व्यक्ति अपने विचार सरल ढंग से व्यक्त करने का अभ्यास कर सकता है।

वार्तालाप में व्यक्ति के स्वभाव के अनुसार उसकी अच्छी-बुरी सभी बातों को स्थान दिया जाता है। इससे छात्रों में तर्क करने की शक्ति उत्पत्र होती है। नाटकों में वार्तालाप का उपयोग सबसे अधिक होता है। इसमें रोचकता, प्रवाह और स्वाभाविकता होनी चाहिए। व्यक्ति, वातावरण और स्थान के अनुसार इसकी भाषा ऐसी होनी चाहिए जो हर तरह से सरल हो। इतना ही नहीं, वार्तालाप संक्षिप्त और मुहावरेदार भी होना चाहिए।

अच्छे संवाद-लेखन की विशेषताएँ

(1) संवाद में प्रवाह, क्रम और तर्कसम्मत विचार होना चाहिए। 
(2) संवाद देश, काल, व्यक्ति और विषय के अनुसार लिखा होना चाहिए। 
(3) संवाद सरल भाषा में लिखा होना चाहिए। 
(4) संवाद में जीवन की जितनी अधिक स्वाभाविकता होगी, वह उतना ही अधिक सजीव, रोचक और मनोरंजक होगा। 
(5) संवाद का आरम्भ और अन्त रोचक हो। 

ऊपर दी गयी विशेषताओं को ध्यान में रखकर छात्रों को संवाद लिखने का अभ्यास करना चाहिए। इससे उनमें जीवनगत यथार्थ को समझने और सर्जनात्मक शक्ति को जागरित करने का अवसर मिलता है। उनमें बोलचाल की भाषा लिखने की प्रवृति जगती है।

कुछ उदाहरण इस प्रकार है-
हामिद और दुकानदार का संवाद
हामिद- यह चिमटा कितने का है ?
दुकानदार- यह तुम्हारे काम का नहीं है जी।
हामिद- बिकाऊ है कि नहीं ?
दुकानदार- बिकाऊ नहीं है और यहाँ क्यों लाद लाये है ?
हामिद- तो बताते क्यों नहीं, कै पैसे का है ?
दुकानदार-छे पैसे लगेंगे।
हामिद- ठीक बताओ।
दुकानदार- ठीक-ठीक पाँच पैसे लगेंगे, लेना हो तो लो, नहीं तो चलते बनो।
हामिद- तीन पैसे लोगे ?
पड़ोसी और अँगनू काका का संवाद
पड़ोसी- यह पिल्ला कब पाला, अँगनू काका ?
अँगनू काका- अरे भैया, मैंने काहे को पाला। यहाँ अपने ही पेट का ठिकाना नहीं। रात में न जाने कहाँ से आ गया!
पड़ोसी- तुम इसे पाल लो, काका।
अँगनू काका- भैया की बातें !इसे पालकर करेंगे क्या ?
पड़ोसी- तुम्हारी कोठरी ताका करेगा।
अँगनू काका- कोठरी में कौन खजाना गड़ा है, जो ताकेगा।
रोगी और वैद्य
रोगी- (औषधालय में प्रवेश करते हुए) वैद्यजी, नमस्कार!
वैद्य- नमस्कार! आइए, पधारिए! कहिए, क्या हाल है ?
रोगी- पहले से बहुत अच्छा हूँ। बुखार उतर गया है, केवल खाँसी रह गयी है।
वैद्य- घबराइए नहीं। खाँसी भी दूर हो जायेगी। आज दूसरी दवा देता हूँ। आप जल्द अच्छे हो जायेंगे।
रोगी- आप ठीक कहते हैं। शरीर दुबला हो गया है। चला भी नहीं जाता और बिछावन पर पड़े-पड़े तंग आ गया हूँ।
वैद्य- चिंता की कोई बात नहीं। सुख-दुःख तो लगे ही रहते हैं। कुछ दिन और आराम कीजिए। सब ठीक हो जायेगा।
रोगी- कृपया खाने को बतायें। अब तो थोड़ी-थोड़ी भूख भी लगती है।
वैद्य- फल खूब खाइए। जरा खट्टे फलों से परहेज रखिए, इनसे खाँसी बढ़ जाती है। दूध, खिचड़ी और मूँग की दाल आप खा सकते हैं।
रोगी- बहुत अच्छा! आजकल गर्मी का मौसम है; प्यास बहुत लगती है। क्या शरबत पी सकता हूँ ?
वैद्य- शरबत के स्थान पर दूध अच्छा रहेगा। पानी भी आपको अधिक पीना चाहिए।
रोगी- अच्छा, धन्यवाद! कल फिर आऊँगा।
वैद्य- अच्छा, नमस्कार।

Kriya(Verb)(क्रिया) , क्रिया(Verb) की परिभाषा

Kriya(Verb)(क्रिया)  , क्रिया(Verb) की परिभाषा

जिस शब्द से किसी काम का करना या होना समझा जाय, उसे क्रिया कहते है। 
जैसे- पढ़ना, खाना, पीना, जाना इत्यादि।

'क्रिया' का अर्थ होता है- करना। प्रत्येक भाषा के वाक्य में क्रिया का बहुत महत्त्व होता है। प्रत्येक वाक्य क्रिया से ही पूरा होता है। क्रिया किसी कार्य के करने या होने को दर्शाती है। क्रिया को करने वाला 'कर्ता' कहलाता है।

अली पुस्तक पढ़ रहा है।
बाहर बारिश हो रही है।
बाजार में बम फटा।
बच्चा पलंग से गिर गया।

उपर्युक्त वाक्यों में अली और बच्चा कर्ता हैं और उनके द्वारा जो कार्य किया जा रहा है या किया गया, वह क्रिया है; जैसे- पढ़ रहा है, गिर गया।

अन्य दो वाक्यों में क्रिया की नहीं गई है, बल्कि स्वतः हुई है। अतः इसमें कोई कर्ता प्रधान नहीं है।
वाक्य में क्रिया का इतना अधिक महत्त्व होता है कि कर्ता अथवा अन्य योजकों का प्रयोग न होने पर भी केवल क्रिया से ही वाक्य का अर्थ स्पष्ट हो जाता है; जैसे-
(1) पानी लाओ।
(2) चुपचाप बैठ जाओ।
(3) रुको।
(4) जाओ।

अतः कहा जा सकता है कि,
जिन शब्दों से किसी काम के करने या होने का पता चले, उन्हें क्रिया कहते है।
क्रिया का मूल रूप 'धातु' कहलाता है। इनके साथ कुछ जोड़कर क्रिया के सामान्य रूप बनते हैं; जैसे-

धातु रूप सामान्य रूप
बोल, पढ़, घूम, लिख, गा, हँस, देख आदि। बोलना, पढ़ना, घूमना, लिखना, गाना, हँसना, देखना आदि।
मूल धातु में 'ना' प्रत्यय लगाने से क्रिया का सामान्य रूप बनता है।
क्रिया के भेद
रचना के आधार पर क्रिया के भेद
रचना के आधार पर क्रिया के चार भेद होते हैं-

(1) संयुक्त क्रिया (Compound Verb)
(2) नामधातु क्रिया(Nominal Verb)
(3) प्रेरणार्थक क्रिया (Causative Verb)
(4) पूर्वकालिक क्रिया(Absolutive Verb)

(1)संयुक्त क्रिया (Compound Verb)- जो क्रिया दो या दो से अधिक धातुओं के मेल से बनती है, उसे संयुक्त क्रिया कहते हैं।
दूसरे शब्दों में- दो या दो से अधिक क्रियाएँ मिलकर जब किसी एक पूर्ण क्रिया का बोध कराती हैं, तो उन्हें संयुक्त क्रिया कहते हैं।
जैसे- बच्चा विद्यालय से लौट आया
किशोर रोने लगा
वह घर पहुँच गया।
उपर्युक्त वाक्यों में एक से अधिक क्रियाएँ हैं; जैसे- लौट, आया; रोने, लगा; पहुँच, गया। यहाँ ये सभी क्रियाएँ मिलकर एक ही कार्य पूर्ण कर रही हैं। अतः ये संयुक्त क्रियाएँ हैं।
इस प्रकार,
जिन वाक्यों की एक से अधिक क्रियाएँ मिलकर एक ही कार्य पूर्ण करती हैं, उन्हें संयुक्त क्रिया कहते हैं।
•  संयुक्त क्रिया में पहली क्रिया मुख्य क्रिया होती है तथा दूसरी क्रिया रंजक क्रिया।
•  रंजक क्रिया मुख्य क्रिया के साथ जुड़कर अर्थ में विशेषता लाती है;
जैसे- माता जी बाजार से आ गई।
इस वाक्य में 'आ' मुख्य क्रिया है तथा 'गई' रंजक क्रिया। दोनों क्रियाएँ मिलकर संयुक्त क्रिया 'आना' का अर्थ दर्शा रही हैं।
विधि और आज्ञा को छोड़कर सभी क्रियापद दो या अधिक क्रियाओं के योग से बनते हैं, किन्तु संयुक्त क्रियाएँ इनसे भित्र है, क्योंकि जहाँ एक ओर साधारण क्रियापद 'हो', 'रो', 'सो', 'खा' इत्यादि धातुओं से बनते है, वहाँ दूसरी ओर संयुक्त क्रियाएँ 'होना', 'आना', 'जाना', 'रहना', 'रखना', 'उठाना', 'लेना', 'पाना', 'पड़ना', 'डालना', 'सकना', 'चुकना', 'लगना', 'करना', 'भेजना', 'चाहना' इत्यादि क्रियाओं के योग से बनती हैं।
इसके अतिरिक्त, सकर्मक तथा अकर्मक दोनों प्रकार की संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं। जैसे-
अकर्मक क्रिया से- लेट जाना, गिर पड़ना।
सकर्मक क्रिया से- बेच लेना, काम करना, बुला लेना, मार देना।
संयुक्त क्रिया की एक विशेषता यह है कि उसकी पहली क्रिया प्रायः प्रधान होती है और दूसरी उसके अर्थ में विशेषता उत्पत्र करती है। जैसे- मैं पढ़ सकता हूँ। इसमें 'सकना' क्रिया 'पढ़ना' क्रिया के अर्थ में विशेषता उत्पत्र करती है। हिन्दी में संयुक्त क्रियाओं का प्रयोग अधिक होता है।
संयुक्त क्रिया के भेद
अर्थ के अनुसार संयुक्त क्रिया के 11 मुख्य भेद है-
(i) आरम्भबोधक- जिस संयुक्त क्रिया से क्रिया के आरम्भ होने का बोध होता है, उसे 'आरम्भबोधक संयुक्त क्रिया' कहते हैं।
जैसे- वह पढ़ने लगा, पानी बरसने लगा, राम खेलने लगा।

(ii) समाप्तिबोधक- जिस संयुक्त क्रिया से मुख्य क्रिया की पूर्णता, व्यापार की समाप्ति का बोध हो, वह 'समाप्तिबोधक संयुक्त क्रिया' है।
जैसे- वह खा चुका है; वह पढ़ चुका है। धातु के आगे 'चुकना' जोड़ने से समाप्तिबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।
(iii) अवकाशबोधक- जिससे क्रिया को निष्पत्र करने के लिए अवकाश का बोध हो, वह 'अवकाशबोधक संयुक्त क्रिया' है।
जैसे- वह मुश्किल से सोने पाया; जाने न पाया।
(iv) अनुमतिबोधक- जिससे कार्य करने की अनुमति दिए जाने का बोध हो, वह 'अनुमतिबोधक संयुक्त क्रिया' है।
जैसे- मुझे जाने दो; मुझे बोलने दो। यह क्रिया 'देना' धातु के योग से बनती है।

(v) नित्यताबोधक- जिससे कार्य की नित्यता, उसके बन्द न होने का भाव प्रकट हो, वह 'नित्यताबोधक संयुक्त क्रिया' है।
जैसे- हवा चल रही है; पेड़ बढ़ता गया; तोता पढ़ता रहा। मुख्य क्रिया के आगे 'जाना' या 'रहना' जोड़ने से नित्यताबोधक संयुक्त क्रिया बनती है।

(vi) आवश्यकताबोधक- जिससे कार्य की आवश्यकता या कर्तव्य का बोध हो, वह 'आवश्यकताबोधक संयुक्त क्रिया' है।
जैसे- यह काम मुझे करना पड़ता है; तुम्हें यह काम करना चाहिए। साधारण क्रिया के साथ 'पड़ना' 'होना' या 'चाहिए' क्रियाओं को जोड़ने से आवश्यकताबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।

(vii) निश्र्चयबोधक- जिस संयुक्त क्रिया से मुख्य क्रिया के व्यापार की निश्र्चयता का बोध हो, उसे 'निश्र्चयबोधक संयुक्त क्रिया' कहते हैं।

जैसे- वह बीच ही में बोल उठा; उसने कहा- मैं मार बैठूँगा, वह गिर पड़ा; अब दे ही डालो। इस प्रकार की क्रियाओं में पूर्णता और नित्यता का भाव वर्तमान है।

(viii) इच्छाबोधक- इससे क्रिया के करने की इच्छा प्रकट होती है।
जैसे- वह घर आना चाहता है; मैं खाना चाहता हूँ। क्रिया के साधारण रूप में 'चाहना' क्रिया जोड़ने से इच्छाबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।

(ix) अभ्यासबोधक- इससे क्रिया के करने के अभ्यास का बोध होता है। सामान्य भूतकाल की क्रिया में 'करना' क्रिया लगाने से अभ्यासबोधक संयुक्त क्रियाएँ बनती हैं।

जैसे- यह पढ़ा करता है; तुम लिखा करते हो; मैं खेला करता हूँ।

(x) शक्तिबोधक- इससे कार्य करने की शक्ति का बोध होता है।
जैसे- मैं चल सकता हूँ, वह बोल सकता है। इसमें 'सकना' क्रिया जोड़ी जाती है।

(xi) पुनरुक्त संयुक्त क्रिया- जब दो समानार्थक अथवा समान ध्वनिवाली क्रियाओं का संयोग होता है, तब उन्हें 'पुनरुक्त संयुक्त क्रिया' कहते हैं।
जैसे- वह पढ़ा-लिखा करता है; वह यहाँ प्रायः आया-जाया करता है; पड़ोसियों से बराबर मिलते-जुलते रहो।

(2) नामधातु क्रिया (Nominal Verb)- संज्ञा अथवा विशेषण के साथ क्रिया जोड़ने से जो संयुक्त क्रिया बनती है, उसे 'नामधातु क्रिया' कहते हैं।
जैसे- लुटेरों ने जमीन हथिया ली। हमें गरीबों को अपनाना चाहिए।
उपर्युक्त वाक्यों में हथियाना तथा अपनाना क्रियाएँ हैं और ये 'हाथ' संज्ञा तथा 'अपना' सर्वनाम से बनी हैं। अतः ये नामधातु क्रियाएँ हैं।
इस प्रकार,
जो क्रियाएँ संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण तथा अनुकरणवाची शब्दों से बनती हैं, वे नामधातु क्रिया कहलाती हैं।
संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण तथा अनुकरणवाची शब्दों से निर्मित कुछ नामधातु क्रियाएँ इस प्रकार हैं :














संज्ञा शब्द नामधातु क्रिया
शर्म शर्माना
लोभ लुभाना
बात बतियाना
झूठ झुठलाना
लात लतियाना
दुख दुखाना
सर्वनाम शब्द नामधातु क्रिया
अपना अपनाना
विशेषण शब्द नामधातु क्रिया
साठ सठियाना
तोतला तुतलाना
नरम नरमाना
गरम गरमाना
लज्जा लजाना
लालच ललचाना
फ़िल्म फिल्माना
अनुकरणवाची शब्द नामधातु क्रिया
थप-थप थपथपाना
थर-थर थरथराना
कँप-कँप कँपकँपाना
टन-टन टनटनाना
बड़-बड़ बड़बड़ाना
खट-खट खटखटाना
घर-घर घरघराना

द्रष्टव्य- नामबोधक क्रियाएँ संयुक्त क्रियाएँ नहीं हैं। संयुक्त क्रियाएँ दो क्रियाओं के योग से बनती है और नामबोधक क्रियाएँ संज्ञा अथवा विशेषण के मेल से बनती है। दोनों में यही अन्तर है।

(3)प्रेरणार्थक क्रिया (Causative Verb)-जिन क्रियाओ से इस बात का बोध हो कि कर्ता स्वयं कार्य न कर किसी दूसरे को कार्य करने के लिए प्रेरित करता है, वे प्रेरणार्थक क्रिया कहलाती है।

जैसे- काटना से कटवाना, करना से कराना।
एक अन्य उदाहरण इस प्रकार है-
मालिक नौकर से कार साफ करवाता है।
अध्यापिका छात्र से पाठ पढ़वाती हैं।

उपर्युक्त वाक्यों में मालिक तथा अध्यापिका प्रेरणा देने वाले कर्ता हैं। नौकर तथा छात्र को प्रेरित किया जा रहा है। अतः उपर्युक्त वाक्यों में करवाता तथा पढ़वाती प्रेरणार्थक क्रियाएँ हैं।

•  प्रेरणार्थक क्रिया में दो कर्ता होते हैं :
(1) प्रेरक कर्ता-प्रेरणा देने वाला; जैसे- मालिक, अध्यापिका आदि।
(2) प्रेरित कर्ता-प्रेरित होने वाला अर्थात जिसे प्रेरणा दी जा रही है; जैसे- नौकर, छात्र आदि।

प्रेरणार्थक क्रिया के रूप
प्रेरणार्थक क्रिया के दो रूप हैं :

(1) प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया 
(2) द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया

(1) प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया
माँ परिवार के लिए भोजन बनाती है।
जोकर सर्कस में खेल दिखाता है।
रानी अनिमेष को खाना खिलाती है।
नौकरानी बच्चे को झूला झुलाती है।

इन वाक्यों में कर्ता प्रेरक बनकर प्रेरणा दे रहा है। अतः ये प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया के उदाहरण हैं।
•  सभी प्रेरणार्थक क्रियाएँ सकर्मक होती हैं।

(2) द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया

माँ पुत्री से भोजन बनवाती है।
जोकर सर्कस में हाथी से करतब करवाता है।
रानी राधा से अनिमेष को खाना खिलवाती है।
माँ नौकरानी से बच्चे को झूला झुलवाती है।

इन वाक्यों में कर्ता स्वयं कार्य न करके किसी दूसरे को कार्य करने की प्रेरणा दे रहा है और दूसरे से कार्य करवा रहा है। अतः यहाँ द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया है।

•  प्रथम प्रेरणार्थक और द्वितीय प्रेरणार्थक-दोनों में क्रियाएँ एक ही हो रही हैं, परन्तु उनको करने और करवाने वाले कर्ता अलग-अलग हैं।

•  प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया प्रत्यक्ष होती है तथा द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया अप्रत्यक्ष होती है।
याद रखने वाली बात यह है कि अकर्मक क्रिया प्रेरणार्थक होने पर सकर्मक (कर्म लेनेवाली) हो जाती है। जैसे-
राम लजाता है।

वह राम को लजवाता है।

प्रेरणार्थक क्रियाएँ सकर्मक और अकर्मक दोनों क्रियाओं से बनती हैं। ऐसी क्रियाएँ हर स्थिति में सकर्मक ही रहती हैं। जैसे- मैंने उसे हँसाया; मैंने उससे किताब लिखवायी। पहले में कर्ता अन्य (कर्म) को हँसाता है और दूसरे में कर्ता दूसरे को किताब लिखने को प्रेरित करता है। इस प्रकार हिन्दी में प्रेरणार्थक क्रियाओं के दो रूप चलते हैं। प्रथम में 'ना' का और द्वितीय में 'वाना' का प्रयोग होता है- हँसाना- हँसवाना।

प्रेरणार्थक क्रियाओं के कुछ अन्य उदाहरण
मूल क्रिया प्रथम प्रेरणार्थक द्वितीय प्रेरणार्थक
उठना उठाना उठवाना
उड़ना उड़ाना उड़वाना
चलना चलाना चलवाना
देना दिलाना दिलवाना
जीना जिलाना जिलवाना
लिखना लिखाना लिखवाना
जगना जगाना जगवाना
सोना सुलाना सुलवाना
पीना पिलाना पिलवाना
देना दिलाना दिलवाना
धोना धुलाना धुलवाना
रोना रुलाना रुलवाना
घूमना घुमाना घुमवाना
पढ़ना पढ़ाना पढ़वाना
देखना दिखाना दिखवाना
खाना खिलाना खिलवाना

(4) पूर्वकालिक क्रिया (Absolutive Verb)- जिस वाक्य में मुख्य क्रिया से पहले यदि कोई क्रिया हो जाए, तो वह पूर्वकालिक क्रिया कहलाती हैं।
दूसरे शब्दों में- जब कर्ता एक क्रिया समाप्त कर उसी क्षण दूसरी क्रिया में प्रवृत्त होता है तब पहली क्रिया 'पूर्वकालिक' कहलाती है।

जैसे- पुजारी ने नहाकर पूजा की
राखी ने घर पहुँचकर फोन किया।
उपर्युक्त वाक्यों में पूजा की तथा फोन किया मुख्य क्रियाएँ हैं। इनसे पहले नहाकर, पहुँचकर क्रियाएँ हुई हैं। अतः ये पूर्वकालिक क्रियाएँ हैं।

•  पूर्वकालिक का शाब्दिक अर्थ है-पहले समय में हुई।

•  पूर्वकालिक क्रिया मूल धातु में 'कर' अथवा 'करके' लगाकर बनाई जाती हैं; जैसे-
चोर सामान चुराकर भाग गया।
व्यक्ति ने भागकर बस पकड़ी।
छात्र ने पुस्तक से देखकर उत्तर दिया।
मैंने घर पहुँचकर चैन की साँस ली।
कर्म के आधार पर क्रिया के भेद

कर्म की दृष्टि से क्रिया के निम्नलिखित दो भेद होते हैं :
(1)सकर्मक क्रिया(Transitive Verb) 
(2)अकर्मक क्रिया(Intransitive Verb)

(1)सकर्मक क्रिया :-वाक्य में जिस क्रिया के साथ कर्म भी हो, तो उसे सकर्मक क्रिया कहते है।
इसे हम ऐसे भी कह सकते है- 'सकर्मक क्रिया' उसे कहते है, जिसका कर्म हो या जिसके साथ कर्म की सम्भावना हो, अर्थात जिस क्रिया के व्यापार का संचालन तो कर्ता से हो, पर जिसका फल या प्रभाव किसी दूसरे व्यक्ति या वस्तु, अर्थात कर्म पर पड़े।

दूसरे शब्दों में-वाक्य में क्रिया के होने के समय कर्ता का प्रभाव अथवा फल जिस व्यक्ति अथवा वस्तु पर पड़ता है, उसे कर्म कहते है।

सरल शब्दों में- जिस क्रिया का फल कर्म पर पड़े उसे सकर्मक क्रिया कहते है।
जैसे- अध्यापिका पुस्तक पढ़ा रही हैं।
माली ने पानी से पौधों को सींचा।
उपर्युक्त वाक्यों में पुस्तक, पानी और पौधे शब्द कर्म हैं, क्योंकि कर्ता (अध्यापिका तथा माली) का सीधा फल इन्हीं पर पड़ रहा है।
क्रिया के साथ क्या, किसे, किसको लगाकर प्रश्न करने पर यदि उचित उत्तर मिले, तो वह सकर्मक क्रिया होती है; जैसे- उपर्युक्त वाक्यों में पढ़ा रही है, सींचा क्रियाएँ हैं। इनमें क्या, किसे तथा किसको प्रश्नों के उत्तर मिल रहे हैं। अतः ये सकर्मक क्रियाएँ हैं।
कभी-कभी सकर्मक क्रिया का कर्म छिपा रहता है। जैसे- वह गाता है; वह पढ़ता है। यहाँ 'गीत' और 'पुस्तक' जैसे कर्म छिपे हैं।

सकर्मक क्रिया के भेद

सकर्मक क्रिया के निम्नलिखित दो भेद होते हैं :
(i) एककर्मक क्रिया
(ii) द्विकर्मक क्रिया

(i) एककर्मक क्रिया :-जिस सकर्मक क्रियाओं में केवल एक ही कर्म होता है, वे एककर्मक सकर्मक क्रिया
कहलाती हैं।
जैसे- श्याम फ़िल्म देख रहा है।
नौकरानी झाड़ू लगा रही है।
इन उदाहरणों में फ़िल्म और झाड़ू कर्म हैं। 'देख रहा है' तथा 'लगा रही है' क्रिया का फल सीधा कर्म पर पड़ रहा है, साथ ही दोनों वाक्यों में एक-एक ही कर्म है। अतः यहाँ एककर्मक क्रिया है।

(ii) द्विकर्मक क्रिया :- द्विकर्मक अर्थात दो कर्मो से युक्त। जिन सकमर्क क्रियाओं में एक साथ दो-दो कर्म होते हैं, वे द्विकर्मक सकर्मक क्रिया कहलाते हैं।

जैसे- श्याम अपने भाई के साथ फ़िल्म देख रहा है।
नौकरानी फिनाइल से पोछा लगा रही है।
इन उदाहरणों में क्या, किसके साथ तथा किससे प्रश्नों के उत्तर मिल रहे हैं; जैसे-
पहले वाक्य में श्याम किसके साथ, क्या देख रहा है ?
प्रश्नों के उत्तर मिल रहे हैं कि श्याम अपने भाई के साथ फ़िल्म देख रहा है।
दूसरे वाक्य में नौकरानी किससे, क्या लगा रही है?
प्रश्नों के उत्तर मिल रहे हैं कि नौकरानी फिनाइल से पोछा लगा रही है।

दोनों वाक्यों में एक साथ दो-दो कर्म आए हैं, अतः ये द्विकर्मक क्रियाएँ हैं।

•  द्विकर्मक क्रिया में एक कर्म मुख्य होता है तथा दूसरा गौण (आश्रित)।
•  मुख्य कर्म क्रिया से पहले तथा गौण कर्म के बाद आता है।
•  मुख्य कर्म अप्राणीवाचक होता है, जबकि गौण कर्म प्राणीवाचक होता है।
•  गौण कर्म के साथ 'को' विभक्ति का प्रयोग किया जाता है, जो कई बार अप्रत्यक्ष भी हो सकती है; जैसे-
बच्चे गुरुजन को प्रणाम करते हैं।
(गौण कर्म)......... (मुख्य कर्म)
सुरेंद्र ने छात्र को गणित पढ़ाया।
(गौण कर्म)......... (मुख्य कर्म)

(2)अकर्मक क्रिया :-वाक्य में जब क्रिया के साथ कर्म नही होता तो उस क्रिया को अकर्मक क्रिया कहते है।
दूसरे शब्दों में- जिन क्रियाओं का व्यापार और फल कर्ता पर हो, वे 'अकर्मक क्रिया' कहलाती हैं।
अ + कर्मक अर्थात कर्म रहित/कर्म के बिना। जिन क्रियाओं के साथ कर्म न लगा हो तथा क्रिया का फल कर्ता पर ही पड़े, उन्हें अकर्मक क्रिया कहते हैं।

अकर्मक क्रियाओं का 'कर्म' नहीं होता, क्रिया का व्यापार और फल दूसरे पर न पड़कर कर्ता पर पड़ता है।
उदाहरण के लिए -

श्याम सोता है। इसमें 'सोना' क्रिया अकर्मक है। 'श्याम' कर्ता है, 'सोने' की क्रिया उसी के द्वारा पूरी होती है। अतः, सोने का फल भी उसी पर पड़ता है। इसलिए 'सोना' क्रिया अकर्मक है।
अन्य उदाहरण

पक्षी उड़ रहे हैं। बच्चा रो रहा है।
उपर्युक्त वाक्यों में कोई कर्म नहीं है, क्योंकि यहाँ क्रिया के साथ क्या, किसे, किसको, कहाँ आदि प्रश्नों के कोई उत्तर नहीं मिल रहे हैं। अतः जहाँ क्रिया के साथ इन प्रश्नों के उत्तर न मिलें, वहाँ अकर्मक क्रिया होती है।
कुछ अकर्मक क्रियाएँ इस प्रकार हैं :
तैरना, कूदना, सोना, ठहरना, उछलना, मरना, जीना, बरसना, रोना, चमकना आदि।
सकर्मक और अकर्मक क्रियाओं की पहचान
सकर्मक और अकर्मक क्रियाओं की पहचान 'क्या', 'किसे' या 'किसको' आदि पश्र करने से होती है। यदि कुछ उत्तर मिले, तो समझना चाहिए कि क्रिया सकर्मक है और यदि न मिले तो अकर्मक होगी।
जैसे-
(i) 'राम फल खाता हैै।'
प्रश्न करने पर कि राम क्या खाता है, उत्तर मिलेगा फल। अतः 'खाना' क्रिया सकर्मक है।
(ii) 'सीमा रोती है।'
इसमें प्रश्न पूछा जाये कि 'क्या रोती है ?' तो कुछ भी उत्तर नहीं मिला। अतः इस वाक्य में रोना क्रिया अकर्मक है।
उदाहरणार्थ- मारना, पढ़ना, खाना- इन क्रियाओं में 'क्या' 'किसे' लगाकर पश्र किए जाएँ तो इनके उत्तर इस प्रकार होंगे-
पश्र- किसे मारा ?
उत्तर- किशोर को मारा।
पश्र- क्या खाया ?
उत्तर- खाना खाया।
पश्र- क्या पढ़ता है।
उत्तर- किताब पढ़ता है।
इन सब उदाहरणों में क्रियाएँ सकर्मक है।
कुछ क्रियाएँ अकर्मक और सकर्मक दोनों होती है और प्रसंग अथवा अर्थ के अनुसार इनके भेद का निर्णय किया जाता है। जैसे-
अकर्मक सकर्मक
उसका सिर खुजलाता है। वह अपना सिर खुजलाता है।
बूँद-बूँद से घड़ा भरता है। मैं घड़ा भरता हूँ।
तुम्हारा जी ललचाता है। ये चीजें तुम्हारा जी ललचाती हैं।
जी घबराता है। विपदा मुझे घबराती है।
वह लजा रही है। वह तुम्हें लजा रही है।

Recruitment 2018 || Latest Update Every Week 2018






Latest Recruitment Every Week:

Uttarakhand State Council for Science and Technology 07 Senior Research Fellow, Technical Assistant, Multiple posts Apply Before 12th June 2018|| Recruitment   


India Post Office 01 Staff Car Driver Apply Online Before 12th June 2018|| Recruitment


PGIMER Jobs 2018: 05 Attendant, Research Officer, Project Coordinator Post 13th June 2018 || Recruitment

City Sessions Court Calcutta 49 Lower Division Assistant, English Stenographer, Multiple Post  Apply online before  12th June 2018 || Recruitment


Karnataka Forest Department 94 Forest Watcher Vacancy for 10TH 13th June 2018|| Recruitment

Tax Inspector, Assistant Programmer & Other Posts 8th July 2018|| Recruitment

DAE Recruitment 2018 - 26 Posts with Department of Atomic Energy  29th June 2018 || Recruitment

IIT Kanpur 05 Project Technical Officer, Project Manager, Multiple Vacancy 2018|| Recruitment

AIIMS 03 Research Officer, Lab Technician, Lab Attendant  Recruitment 2018|| Recruitment

Anna University 2018 20 Field Assistant, Project Technician, Project Associate Vacancy for 10TH, 12TH|| Recruitment

NCERT 30 Office Assistant, Junior Project Fellow, Multiple Vacancy for 12TH, 2018 ||Recruitment

Central Railway 2018  Junior Engineer, Ticket Collector, Multiple Vacancy for Diploma, 12TH, Any Graduate, ITI  2018 || Recruitment

Midnapore Medical College Recruitment  2018 02 Lab Technician, Research Scientist Vacancy for 12TH,8th June 2018 || Recruitment

Central Jail Hospital Tihar Jobs 2018 58 Lab Assistant, Psychiatric Nurse, Multiple Vacancy for 12th 8th June 2018 ||Recruitment

Mumbai Port Trust Jobs 8th June 2018 || Recruitment

Railway Recruitment 2018 (ALP-Technicians) || Recruitment 








Recruitment
 RPSC Protection Officer Recruitment 2018 - Apply Online 20 Post
 RPSC Recruitment 2018 , Apply 201 Asst Statistical Officer Post
 RPSC Recruitment 2018 Apply Online for 1421 Headmaster, ASO & Other Posts
PSPCL Recruitment – 2800 Assistant Lineman Vacancies –pspcl.in
JSSC Recruitment – 3010 Post Graduate Trained Teacher Vacancy –  jssc.nic.in
RBI Recruitment 2017 –Office Attendant & Research Posts Apply Online for - 532 Post
BEML recruitment 2017-18 apply online for General Manager 1 post at 2017-18
RBI recruitment 2017-18 apply online for 526 Office Attendant posts 2017-18

Indian Army recruitment 2017 Apply online for 90 Technical Entry Scheme vacancies
NHDC recruitment 2017 Apply online At nhdc.org.in
ITBP Recruitment 2017 Apply online for 324 Constable , SI Post At Official Website - itbpolice.nic.in
JPSC recruitment 2017 Apply online  at jpsc.gov.in
Delhi Subordinate Services Selection Board jobs for Junior Engineer / Lower Division Clerk in Delhi. Last Date to apply: 2017||Recruitment
DSSSB Recruitment 1074 Lower Division Clerk, Grade-IV End Date 21 August 2017 || Recruitment
SSC Recruitment 2017: 1,102 Scientific Assistant Vacancy for B.Sc, BCA, Diploma Salary 34,800 published on 19th July 2017
AIIMS Recruitment 2017 apply for 2309 various Posts || Recruitment
AIIMS Rishikesh Recruitment For Hospital Attendant & Store Keeper-Cum-Clerk End Date 06 September 2017 || Recruitment
NHPC Recruitment – National Hydroelectric Power Corporation Vacancy – Last Date 28 July 2017 Apply Online || Recruitment

DMRC recruitment 2017 Apply General Manager Vacancy
AXIS BANK Recruitment 2017 Business Development Executives Vacancy Notification || Recruitment


NSIC Recruitment 2017 Apply Deputy Manager Posts 2017|| Recruitment




TS TET  Vacancies of Teachers for Classes I to VIII Total  8,792 Posts Apply Online 2017 || Recruitment
 HPBOSE Recruitment 2017 - Clerk & Computer Operator || Recruitment


HLL recruitment 2017 -  18 || Recruitment
Delhi University recruitment 2017 Apply online   at du.ac.in || Recruitment
ISI Recruitment 2017-18 notification   Posts  || Recruitment
MECL recruitment 2017 apply For Assistant Manager vacancies || Recruitment
NEIGRIHMS recruitment 2017-18 notification  Social Worker cum Data Operator || Recruitment
NRHM Recruitment 2017 apply  Online  vacancies || Recruitment
SCTIMST recruitment 2017 Project Assistant Posts || Recruitment
E - Court recruitment 2017 apply for 03 Stenographer, Assistant vacancies || Recruitment


Karnataka State Police KSP Recruitment 2017, 2626 Police Constable Vacancies || Recruitment
DSAU Nadia VRP Recruitment 2017 – Apply Online for 490 Village Resource Person Vacancy || Recruiment
Karur Vysya Bank Recruitment 2017 – Apply Online Specialist Officers || Recruitment
OFB Recruitment 2017 Apply online For 4110 Industrial Employees || Recruitment
IISER Recruitment 2017 Notification 01 Scientific Assistant Vacancy|| Recruitment
CIFA recruitment 2017 apply for 03 Technical Assistant Post ||Recruitment
Chhattisgarh High Court recruitment 2017 || Recruitment
Rajasthan University Recruitment 2017 apply 169 Clerk, Lab Assistant || Recruitment
HMT recruitment 2017 apply for 24  Vacancies || Recruitment
Bank of Maharashtra recruitment 2017 Sub Staff 450 Vacancy || Recruitment
MPSC Recruitment 2017 Notification 01 Public Relation Officer vacancy || Recruitment
NCERT Recruitment 2017 apply for 30 DTP Operator Post || Recruitment
NDDB recruitment 2017 Apply online || Recruitment
MIDHANI Recruitment 2017 Apply online for 03 Addl General Manager/Dy General Manager
Andhra Bank Recruitment 2017 apply for 05 Sub-Staff Post || Recruitment





94574        4=6=17
Recruitment
CPCL Recruitment 2017 – Chennai Petroleum Corporation Ltd
MDL Recruitment 2017 Technical Staff | Technical Staff Recruitment 2017
UPSSSC 10+2 Junior Assistant Special Recruitment Online Form 2017
UPPSC Staff Nurse Recruitment 2017 Apply for 3838 Vacancy

ERDO Classes DEC, BEC, BTT Recruitment Online Form 2017
Rajasthan Post Office Vacancy 2017| Rajpost recruitment 2017
MSRTC Vacancy Driver & Conductor, Clerk Typist and Assistant (Junior) 2017 - admit card
Coal India Recruitment 2017-Apply on link official link


UP Police 760 SI ASI Vacancy 2017 Apply Online @ uppbpb.gov.in
UP Jail Prahari Recruitment 2017 Eligibility Criteria Police Recruitment 2017 | Police Vacancy 2017  

Click Here To Get   Recruitment


Recruitment
UPSSSC Computer Operator 64 Recruitment 2017
Post - 64

UPPCL Group C Stenographer, Office Assistant Recruitment 2016-17
Post - 2585
Noida Metro Rail Corporation Recruitment (NMRC) 2016- Online Application
UP URDU ASSISTANT TEACHER RECRUITMENT POST VACANCIES 2017
Post -4000
UP Primary Teacher Recruitment (Assistant) 2017  
Post - 12460
UPSSSC Junior Engineer 489 Recruitment 2017 Technical Jobs Notification
Post - 489
Vacancy in NALCO 2017 | NALCO Recruitment 2017
Post - 02
Gauhati high Court Recruitment 2017
Post - 112
Uttar Pradesh Subordinate Service Selection Commission (UPSSSC) 2017
Post -352
Recruitment in ICSIL 2017 Apply Online For 40 MTS Vacancies at www.icsil.in
Post - 40
NRHM Assam Recruitment 2017 | Apply NRHM Assam 50 Staff Nurse Posts
Post -50
UP LT Grade Teacher Recruitment 2017
Post -9342

UPSSC 10+2 Junior Assistant Recruitment Post
Recruitment for Scientist & DOTS Treatment Supporters Posts
Post -
Last Date -
Rashtriya Sanskrit Sansthan Recruitment 2017
Post - 29
Vacancies of AIIMS Jodhpur Recruitment 2017
Post -125
SSC Multitasking Recruitment 2017, 8300 NON Technical Recruitment 2017
Post - 8300
Motor Vehicle Inspector vacancy 2017
Post - 837
Assam Forest Department Recruitment 2017 Vacancies Post
Post -710



https://drive.google.com/open?id=0BzbIwOurKwqTcFlxZFZGNnhNNTA

Uttarakhand State Council for Science and Technology 07 Senior Research Fellow, Technical Assistant, Multiple posts Apply Before 12th June 2018|| Recruitment




























Latest Vacancy / Admit / Result